एग फ्रीजिंग – यह क्या है और इसके क्या फायदे हैं?

शीर्षक पढ़कर आप सोच रहे होंगे कि ये किस बला का नाम है और ये एग फ्रीजिंग क्या है? एग फ्रीजिंग,  महिलाओं की प्रजनन क्षमता को संरक्षित करने का एक तरीका है ताकि महिलाएं भविष्य में अपना परिवार बनना सके।

इस प्रक्रिया में महिलाओं  के अंडे को इकट्ठा किया जाता है और  उन्हें फ्रीज करते है, फिर बाद में उन्हें पिघलाते है ताकि उन्हें प्रजनन उपचार में इस्तेमाल किया जा सके। एग फ्रीज़िंग, स्वास्थ्य संबंधी कुछ मामलों में महिलाओं की मदद कर सकती हैं। बढ़ती उम्र के साथ- साथ महिलाओं की प्रजनन क्षमता घटती जाती है। एग फ्रीजिंग महिलाओं के स्वस्थ और अंडे को सुरक्षित रखता है। ऐसा करने से, उनकी जैविक गति को बाधित किया जाता है और बाद में प्रजनन के लिए उनका उपयोग किया जाता है। एग फ्रीजिंग उन महिलाओं के वरदान है जो अधिक उम्र में माँ बनने की ख्वाहिश रखती हैं।

एग फ्रीजिंग की क्या प्रक्रिया है ?

पहले रोगी के रक्त के नमूने लिए जाते हैं, ताकि यह देखा जा सके कि रोगी के शरीर में हार्मोन का स्तर और यदि हार्मोन का स्तर नीचे है, तो उन्हें दवाओं की मदद से नियंत्रित किया जाता है। उसके बाद, फर्टिलिटी ड्रग्स और हार्मोन रोगी को दिए जाते हैं, जिससे उसके अंडकोष में नए अंडे बनने लगते हैं। वहां से अंडों को निकाला जाता है और टेस्ट ट्यूब में रखा जाता है। अंडों की गिनती एक से अधिक रखी जाती है। इस प्रक्रिया में, पहले महिलाओं को कुछ दवाएं दी जाएंगी, जिन्हें कुछ दिनों तक खाना होती है, उसके बाद दवा लेना बंद कर देती है

इस प्रक्रिया में अंडे को जमने के लिए मासिक धर्म के 21 वें दिन से जीएनआरएच एनालॉग के साथ शुरू की जाती है और मासिक धर्म आने तक जारी रहती है।

फिर मासिक धर्म चक्र के दूसरे दिन से 10 से 12 दिनों तक इंजेक्शन दिया जाता है। अंडे के एक निश्चित आकार में आने के बाद, उसे पूर्ण परिपक्व अवस्था में लाने के लिए मानव क्रोनिक गोनैडोट्रॉफ़िन के साथ इंजेक्शन लगाया जाता है। 30 घंटों के बाद, महिला को बेहोश कर उनके  अंडों को अंडाशय से निकाला जाता है। परिपक्वता के आधार पर, अच्छे अंडों को सॉर्ट किया जाता है और तरल नाइट्रोजन में संग्रहित किया जाता है, जो कि माइनस होता है।

 

एग फ्रीजिंग के लिए सही उम्र  

20 से 30 साल की उम्र की महिलाएं अपने अंडे को फ्रीज करवा सकती हैं। ऐसा देखा गया है कि 35 की उम्र तक पहुंचने के बाद महिलाओं की प्रजनन क्षमता कम हो जाती है। 30 साल से पहले और 20साल के बाद वाली  महिलाओं के अंडे बहुत अधिक स्वस्थ और उच्च प्रजनन क्षमता के होते हैं।

खर्च :  यह ट्रीटमेंट काफी महंगी है। लेकिन यह अन्य प्रजनन उपचारों की तुलना में काफी किफायती है। अगर यह सफलतापूर्वक शुरू होता है, तो इसके परिणाम अच्छे होंगे।

 

शीर्षक पढ़कर आप सोच रहे होंगे कि ये किस बला का नाम है और ये एग फ्रीजिंग क्या है? एग फ्रीजिंग,  महिलाओं की प्रजनन क्षमता को संरक्षित करने का एक तरीका है ताकि महिलाएं भविष्य में अपना परिवार बनना सके।

इस प्रक्रिया में महिलाओं  के अंडे को इकट्ठा किया जाता है और  उन्हें फ्रीज करते है, फिर बाद में उन्हें पिघलाते है ताकि उन्हें प्रजनन उपचार में इस्तेमाल किया जा सके। एग फ्रीज़िंग, स्वास्थ्य संबंधी कुछ मामलों में महिलाओं की मदद कर सकती हैं। बढ़ती उम्र के साथ- साथ महिलाओं की प्रजनन क्षमता घटती जाती है। एग फ्रीजिंग महिलाओं के स्वस्थ और अंडे को सुरक्षित रखता है। ऐसा करने से, उनकी जैविक गति को बाधित किया जाता है और बाद में प्रजनन के लिए उनका उपयोग किया जाता है। एग फ्रीजिंग उन महिलाओं के वरदान है जो अधिक उम्र में माँ बनने की ख्वाहिश रखती हैं।

एग फ्रीजिंग की क्या प्रक्रिया है ?

पहले रोगी के रक्त के नमूने लिए जाते हैं, ताकि यह देखा जा सके कि रोगी के शरीर में हार्मोन का स्तर और यदि हार्मोन का स्तर नीचे है, तो उन्हें दवाओं की मदद से नियंत्रित किया जाता है। उसके बाद, फर्टिलिटी ड्रग्स और हार्मोन रोगी को दिए जाते हैं, जिससे उसके अंडकोष में नए अंडे बनने लगते हैं। वहां से अंडों को निकाला जाता है और टेस्ट ट्यूब में रखा जाता है। अंडों की गिनती एक से अधिक रखी जाती है। इस प्रक्रिया में, पहले महिलाओं को कुछ दवाएं दी जाएंगी, जिन्हें कुछ दिनों तक खाना होती है, उसके बाद दवा लेना बंद कर देती है

इस प्रक्रिया में अंडे को जमने के लिए मासिक धर्म के 21 वें दिन से जीएनआरएच एनालॉग के साथ शुरू की जाती है और मासिक धर्म आने तक जारी रहती है।

फिर मासिक धर्म चक्र के दूसरे दिन से 10 से 12 दिनों तक इंजेक्शन दिया जाता है। अंडे के एक निश्चित आकार में आने के बाद, उसे पूर्ण परिपक्व अवस्था में लाने के लिए मानव क्रोनिक गोनैडोट्रॉफ़िन के साथ इंजेक्शन लगाया जाता है। 30 घंटों के बाद, महिला को बेहोश कर उनके  अंडों को अंडाशय से निकाला जाता है। परिपक्वता के आधार पर, अच्छे अंडों को सॉर्ट किया जाता है और तरल नाइट्रोजन में संग्रहित किया जाता है, जो कि माइनस होता है।

 

एग फ्रीजिंग के लिए सही उम्र  

20 से 30 साल की उम्र की महिलाएं अपने अंडे को फ्रीज करवा सकती हैं। ऐसा देखा गया है कि 35 की उम्र तक पहुंचने के बाद महिलाओं की प्रजनन क्षमता कम हो जाती है। 30 साल से पहले और 20साल के बाद वाली  महिलाओं के अंडे बहुत अधिक स्वस्थ और उच्च प्रजनन क्षमता के होते हैं।

खर्च :  यह ट्रीटमेंट काफी महंगी है। लेकिन यह अन्य प्रजनन उपचारों की तुलना में काफी किफायती है। अगर यह सफलतापूर्वक शुरू होता है, तो इसके परिणाम अच्छे होंगे।

 


Warning: Use of undefined constant php - assumed 'php' (this will throw an Error in a future version of PHP) in /home/customer/www/morpheusivf.com/public_html/blog/wp-content/themes/morpheus/single.php on line 67